--------------------------------------------------------------------------------------------

Learn what’s best for you

जानिये रत्न ज्योतिष उपाय के बारे में !

जानिये रत्न ज्योतिष उपाय के बारे में !

ग्रह के रत्न हमेशा कार्य नही करते, यह रत्न तभी काम करेंगे जब आपकी कुंडली में क्षमता होगी। जैसे अगर कुण्डली में उपस्थित शनि काम काज में प्रगति देने में सक्षम होगा तो उसका रत्न लाभ देगा, लेकिन अगर शादी के लिए शनि का रत्न पहनेंगे तो कोई फर्क नही होगा। इसीलिए कुण्डली विश्लेषण और ग्रह शक्ति का आंकलन करना जरुरी होता है। सामान्य रूप से निम्न रूप से ग्रहों और उनके रत्नों का उपयोग किया जाता है, लेकिन कुण्डली विश्लेषण करवाना अधिक जरुरी है। ★ माणिक - सूर्य सरकारी नौकरी, दवाएं, स्वास्थ्य, हड्डी, दांत, नाम, यश, मुकदमा, पुलिस, विवाद ★ मोती - चंद्र स्वास्थ्य, मानसिक शांति, संपत्ति, स्थायित्व, यात्रा, निंद्रा, विवाद निपटारा ★ मूंगा - मंगल विवाद, मानसिक शांति, विवाह, घरेलू शांति, वास्तु दोष/ भूमि दोष में कमी, व्यापार में बढ़ोत्तरी, कर्ज में कमी, ऋण मुक्ति, निर्माण कार्य, कमिशन के कार्य, दुर्घटना से रोकथाम ★ गोमेद - राहु विवाद से मुक्ति, गुप्त शत्रु से मुक्ति, प्रतिष्ठा और नाम में वृद्धि, प्रसिद्धि, धन बढ़ोत्तरी, खानपान के व्यापार के अलावा अन्य सभी व्यापार के बढ़ोत्तरी में सहायक, बुद्धि का विकास, प्रतियोगिता में सफलता, विवाह, निर्माण कार्य ★ पुखराज - गुरु विवाह, स्वास्थ्य, संतान, काम काज में बढ़ोत्तरी, नौकरी में बदलाव, नई नौकरी, दुर्घटना मुक्ति ★ नीलम - शनि नौकरी, ऋण, स्वास्थ्य, विवाद, कोर्ट केस, मानसिक शांति, लम्बी बीमारी, निर्माण कार्य, स्थिर नौकरी ★ पन्ना - बुध मानसिक विकास, बौद्धिक विकास, काम काज में बढ़ोत्तरी, व्यापार के लिए आवश्यक, वित्तीय कार्य, मीटिंग, लीडर, प्रेम, विवाह, चर्म रोग, पैसो के लेनदेन के कार्य, शेयर मार्केट ★ लहसुनिया - केतु गुप्त शत्रु से मुक्ति, गंभीर रोग मुक्ति, ज्योतिष, ज्ञान, तंत्र मंत्र रक्षा, मानसिक शांति, पारिवारिक विवाद, विवाह विच्छेद, जल्दी धन प्राप्ति, अधिक प्रसिद्धि, लेखन कार्य ★ हीरा - शुक्र विवाह, संतान, शेयर मार्केट, व्यापार, विलासिता के कार्य, बड़े कार्य, अधिक धन प्राप्ति एवम् स्थिरता, रोग मुक्ति, गंभीर रोग, धार्मिक कार्य, ज्योतिष, तंत्र मंत्र रत्न सलाह व रत्न रिपोर्ट के लिए 07999845039 पर संपर्क किया जा सकता है। रत्न को मंत्रो से सिद्ध करके और कुण्डली के अनुसार तैयार करके ही उपयोग करना सही रहता है।। ■ ■ ■ ■ If you are interested in writing articles related to astrology then do register at – https://astrolok.in/my-profile/register/ or contact at astrolok.vedic@gmail.com

comments

Leave a reply

Let's Chat
Next Batch of Numerology Starting from January 2020