Learn what’s best for you

Rahu:The Demon with a Difference (Part-2)

In continuation from part 1 Rahu MD prepares the native for life. Rahu being an airy planet increases Vaat in the body and if other combinations favours the native becomes overweight with an ugly protruding belly. Hence, to control weight and also to consume the amplified energy(cases where mars + rahu is present) native should follow a balanced diet and regularly practise yoga/exercise. Native who develop a healthy lifestyle during Rahu periods, is benefitted for life. Another common problem with Rahu is depression. Scientifically depression arises when a person develops a habit of over thinking and becomes self centered. Both things are related to Rahu. Rahu periods make the natives fickle minded specially if rahu and moon are in aspects or in conjunction. The native unable to solve the problems arising or totally isolated or scared of the outcome of the past actions becomes a victim of over thinking and over analysing even the simplest things. The native develops a tendency to imagine scenarios which are totally utopian. Rahu being the signifactor of darkness, steers the native to look at the "dark side" of everything, turning the native into a hardcore pessimist. Another reason of depression is that in today's world a huge amount of information is available on internet. Internet is ruled by Rahu hence the native keeps on bombarding his/her brain with unnecessary data which ultimately leads to over thinking. The second reason for depression is being self centered or rather being self obsessed. Rahu as already said leads the person into isolation or he/she becomes surrounded by the people who aren't really his/her well wishers. Hence, the native due to isolation or loneliness arising due to the absence of trustworthy companion, the native is unable to think beyond his circumstances or become obsessed with guarding himself or his secrets. This robes off the native of his creativity, problem solving skills and sometimes common sense too. Cont'd. In next part. If you are interested in writing articles related to astrology then do register at - https://astrolok.in/my-profile/register/ or  contact at astrolok.vedic@gmail.com
read more

जानिये क्या है मान्सिक तनाव का कारक |

यदि आप मान्सिक तनाव से गुजर रहे है तो मान ले कि आपका चंद्रमा खराब है या कमजोर है। क्योंकि चंद्रमा मन का कारक होता है। चंद्र आपके शरीर मे मन है, यदि खराब हो तो मन मे खराब विचार आते है, नींद नही आती, सिर में भारीपन व टेन्शन बना रहता है तो आपका चंद्रमा कमजोर है।

चंद्रमा कमजोर होने से आपकी याददाश्त कमजोर हो जाती है |

जातक की अपराधी प्रवर्ति बन जाती है। चंद्र कमजोर होने से जातक के हाथ मे धन नही रुकता या वह धन को नष्ट कर देता है। यदि चंद्र के साथ राहु हो तो चंद्र को ग्रहण लग जाता है यदि केतु या शनि हो तो भी चंद्र ग्रहण होता है।

यदि चंद्र पर किसी क्रूर ग्रह की दृष्टि हो तो भी चंद्र ग्रह खराब हो जाता है। जातक सही फैसले नही ले पाता, उसे रात को नींद नही आती, चिंताग्रस्त रहता है। यदि जातक छात्र है तो पढ़ाई में मन केंद्रित नही होता और यदि चंद्र 6वे भाव, 8वे भाव एवम् 12 वे भाव मे स्थित है तो भी चंद्र खराब मनन जाता है।

8वे भाव मे चंद्र नीच का कहलाता है |

इस जातक रहस्यमयी होता है तंत्र मंत्र विद्या पर विश्वास करता है, उसकी सोच तर्कशील होती है इस जातक शोध जरूर करता है। यदि आपको नेत्र रोग, छाती के रोग, खांसी, जुकाम ,नजला हो तो मान लीजिए आपका चंद्र खराब है। चंद्र को अच्छे करने के उपाय:- रात्रि में चंद्र की वस्तुओं का सेवन न करे जैसी दूध , चावल । चांदी का एक चोकोर टुकड़ा अपने पास रखे। पानी का घूट पीकर काम पर जाए। वर्ष का पानी घर मे स्थापित करे।

रात को एक पानी का लोटा सिरहाने रखकर सोये और सुबह उसे कांटे वाले पौधे या कीकर के पेड़ में डाल दे। ज्योतिषाचार्य सुनील चोपड़ा, ग्वालियर 

Astrolok is one of the famous astrology institute based in Indore where you can learn vedic astrology, marriage astrology, nadi astrology,horoscope matching through live vedic astrology classes. It is a free platform to write astrology articles. Become a part of it by registering at https://www.astrolok.in/index.php/welcome/register


read more

How to calculate and analyze accurate behavior of humans ??

Calculations and Analysis of Accurate Behavior of Human and Living things is possible. Just we need to explore it.

Quite often you must have found yourself engaged in knowing and evaluating your own behavior and that of others.

You must have noticed how you react and behave in certain situations in a manner different from others?

You may have also often asked questions about your relationships with others.

To find an answer to some of these questions, psychologists use the notion of self.

Similarly when we ask questions such as why people are different, how they make different meaning of events, and how they feel and react differently in similar situations (i.e. questions relating to variations in behavior), the notion of personality comes into play.

Both these concepts, i.e. self and personality are intimately related. Self, in fact, lies at the core of personality. The study of self and personality helps us understand not only who we are, but also our uniqueness as well as our similarities with others.

By understanding self and personality, we can understand our own as well as others’ behavior in diverse settings. Several thinkers have analysed the structure and function of self and personality.

As a result, we have different theoretical perspectives on self and personality today. This will introduce you to some basic aspects of self and personality. You will also learn some important theoretical approaches to self and personality and certain methods of personality assessment.

Self and personality refer to the characteristic ways in which we define our existence. They also refer to the ways in which our experiences are organised and show up in our behavior.

From common observation we know that different people hold different ideas about themselves. These ideas represent the self of a person. We also know that different people behave in different ways in a given situation, but the behavior of a particular person from one situation to another generally remains fairly stable. Such a relatively stable pattern of behavior represents the“personality” of that person.

Thus, different persons seem to possess different personalities. These personalities are reflected in the diverse behavior of persons.

This article has been written by us, it has not been copied from any other book, magazine and any other person's article.

Astrolok is one of the famous astrology institute based in Indore where you can learn vedic astrology, marriage astrology, nadi astrology,horoscope matching through live vedic astrology classes. It is a free platform to write astrology articles. Become a part of it by registering at
https://www.astrolok.in/index.php/welcome/register

read more

KETU IN 12TH HOUSE - THE HOUSE OF FOREIGN / SPIRITUAL TRAVELLERS

How do you feel with this placement?

I was only wondering how people with this placement cope because it is not easy dealing with this placement. Ketu in 12th house can make one seek retreat in isolation, people with this placement have a lot to give to the world, the only way for them to regain their strength is through separation or isolation from others, this way they can control their powers and find answers to the deeper or hidden things of this world.

They are spiritual travellers who have travelled from far to join us on earth, so they are not like most of us. These are people who can travel or journey while asleep to another world, these people show interest on things above like they always looking at the sky as if they have friends there, these are people who love to associate themselves to things in which an ordinary human will shy away from or ignore, things like death activities, ghost, mortuary or visiting places of such. They can foresee things about to come and they can also connect with their past life through dreams or some psychic feelings.

They possess deep intuition which is capable of seeing what others cannot see,due to their high energy of ketu in 12th house they mostly suffer from mood swings in which only through isolation can they recover. People with this placement tends to feel with every part of their body, it is as if their body is open to lots of energies, at worst this placement can produce a ruthless person using his great spiritual powers for evil, people with this placement are either born in foreign land which may be different from their mother or father's homeland or they may visit and relocate to a foreign place early or late in life and die in a foreign land.

At worst this placement can also give several troubles in jail, imprisonment and court case situations.

There are lots of things about ketu in 12th but these are some of the things that is common with people having this placement.

Astrolok is one of the famous astrology institute based in Indore where you can learn vedic astrology, marriage astrology, nadi astrology,horoscope matching through live vedic astrology classes. It is a free platform to write astrology articles. Become a part of it by registering at
https://www.astrolok.in/index.php/welcome/register

read more

जानिये हिन्दू धर्म और वैदिक ज्योतिष में ग्रहण का महत्व !

ग्रहण. हिन्दू धर्म और वैदिक ज्योतिष में ग्रहण का बड़ा महत्व है। क्योंकि ग्रहण का प्रभाव पृथ्वी पर उपस्थित सभी मनुष्यों पर होता है। हर साल पृथ्वी पर सूर्य और चंद्र ग्रहण घटित होते हैं। वर्ष 2018 में कुल 5 ग्रहण दिखाई देंगे।

इनमें 3 सूर्य ग्रहण और 2 चंद्र ग्रहण होंगे। वहीं आधुनिक विज्ञान के अनुसार ग्रहण एक खगोलीय घटना है।

जब किसी एक खगोलीय पिंड की छाया दूसरे पिंड पर पड़ती है, तो इस अवस्था को ग्रहण कहा जाता है। साल 2018 में होने वाले ये तीनों सूर्य ग्रहण आंशिक होंगे और भारत में नहीं दिखाई देंगे।

हालांकि दुनिया के अन्य देशों में इनकी दृश्यता होगी। वहीं इस साल होने वाले दोनों चंद्र ग्रहण भारत समेत विश्व के कई देशों में दिखाई देंगे। ये दोनों पूर्ण चंद्र ग्रहण होंगे। हिन्दू धर्म में सूर्य और चंद्रमा का खास महत्व है। बिना सूर्य और चंद्रमा के पृथ्वी पर जीवन की कल्पना करना असंभव है।

वैदिक ज्योतिष में सूर्य को पिता, पूर्वज और उच्च सेवा का कारक माना गया है। वहीं चंद्रमा को मां और मन का कारक कहा गया है। इस वजह से सूर्य और चंद्र ग्रहण का घटित होना मानव समुदाय के जीवन पर प्रभाव डालता है। सूर्य ग्रहण 2018: दिनांक, समय और प्रकार वर्ष 2018 में कुल 3 सूर्य ग्रहण होंगे। इनमें पहला सूर्य ग्रहण 16 फरवरी को, दूसरा सूर्य ग्रहण 13 जुलाई और तीसरा सूर्य ग्रहण 11 अगस्त को दिखाई देगा।

हालांकि ये तीनों सूर्य ग्रहण भारत में दृश्यमान नहीं होंगे इसलिए भारत में इनका सूतक और धार्मिक कर्मकांड मान्य नहीं होगा। तीनों सूर्य ग्रहण का विवरण इस प्रकार है: दिनांक ग्रहण का समय 15-16 फरवरी 2018 00:25:51 से सुबह 04:17:08 बजे तक 13 जुलाई 2018 प्रातः 07:18:23 बजे से 09:43:44 बजे तक 11 अगस्त 2018 दोपहर 13:32:08 से शाम 17:00:40 तक चंद्र ग्रहण 2018: दिनांक, समय और प्रकार वर्ष 2018 में 31 जनवरी को साल का पहला पूर्ण चंद्र ग्रहण घटित होगा जबकि दूसरा चंद्र ग्रहण 27-28 जुलाई की मध्य रात्रि में होगा।

ये दोनों ग्रहण भारत में दृश्यमान होंगे, इसलिए इनका धार्मिक महत्व और सूतक भारत में मान्य होगा। साल 2018 में घटित होने वाले 2 चंद्र ग्रहण का विवरण इस प्रकार है: दिनांक ग्रहण का समय 31 जनवरी 2018 17:57:56 से 20:41:10 बजे तक 27-28 जुलाई 2018 23:56:26 से 03:48:59 बजे तक ग्रहण और सावधानियां हिंदू धर्म में जहां ग्रहण के महत्व को बताया गया है।

वहीं ग्रहण से होने वाले दुष्प्रभावों का उल्लेख भी किया गया है। इसी वजह से ग्रहण के दौरान कुछ कार्यों को वर्जित माना गया है। इनमें किसी नए कार्य की शुरुआत करना, भोजन, भगवान का पूजन समेत कुछ कार्य करना निषेध है। ग्रहण शुरू होने से पूर्व सूतक लगने की वजह से इन कार्यों की मनाही होती है। दरअसल सूतक काल को अशुभ समय माना जाता है।

सूर्य व चंद्र ग्रहण लगने से कुछ समय पहले सूतक काल प्रारंभ हो जाता है। ग्रहण की समाप्ति पर स्नान के बाद सूतक काल समाप्त हो जाता है। हालांकि बुजुर्ग, बच्चों और रोगियों पर ग्रहण का सूतक मान्य नहीं होता है अत: उन पर किसी तरह की बाध्यता नहीं होती है।

जानें ग्रहण और सूतक काल के समय ध्यान रखने योग्य बातें: ईश्वर का ध्यान, भजन और व्यायाम करें। देवी-देवताओं की मूर्ति और तुलसी के पौधे का स्पर्श नहीं करना चाहिए। सूर्य व चंद्र से संबंधित मंत्रों का उच्चारण। सूतक काल के समय भोजन ना बनाएं और ना खायें। सूतक समाप्त होने के बाद ताज़ा भोजन करें। सूतक काल से पहले तैयार भोजन में तुलसी के पत्ते डालकर भोजन को शुद्ध करें।

मल-मूत्र और शौच नहीं करें। दाँतों की सफ़ाई, बालों में कंघी आदि नहीं करें। ग्रहण समाप्त होने पर गंगाजल के छिड़काव से घर का शुद्धिकरण ग्रहण समाप्ति पर स्नान के बाद भगवान की मूर्तियों को स्नान कराएं और पूजा करें। ग्रहण और गर्भवती महिलाएं हिन्दू धर्म से जुड़ी मान्यताओं के अनुसार गर्भवती महिलाओं पर ग्रहण का बुरा असर पड़ता है। इसलिए सूर्य और चंद्र ग्रहण के समय गर्भवती महिलाओं को कुछ विशेष सावधानी बरतने के निर्देश दिये जाते हैं। ग्रहण के समय गर्भवती महिलाओं को घर से बाहर निकलने और ग्रहण देखने से बचना चाहिए।

वहीं गर्भवती महिलाओं को सिलाई, कढ़ाई, काटने और छीलने जैसे कार्य भी नहीं करना चाहिए। ऐसी मान्यता है कि ग्रहण के समय चाकू और सुई का उपयोग करने से गर्भ में पल रहे बच्चे के अंगों को क्षति पहुंच सकती है। ग्रहण में मंत्र जप ग्रहण के समय ईश्वर की मूर्ति का स्पर्श और पूजन वर्जित है लेकिन ध्यान और मंत्र जाप का बड़ा महत्व है। ऐसे में सूर्य और चंद्र ग्रहण के समय निम्न मंत्रों का जाप करना चाहिए।

सूर्य ग्रहण के समय इस मंत्र का जाप करें "ॐ आदित्याय विदमहे दिवाकराय धीमहि तन्नो सूर्य: प्रचोदयात् ” चंद्र ग्रहण के समय इस मंत्र का जाप करें “ॐ क्षीरपुत्राय विद्महे अमृत तत्वाय धीमहि तन्नो चन्द्रः प्रचोदयात् ” ग्रहण को लेकर धार्मिक कथा हिन्दू धर्म से जुड़ी पौराणिक कथा के अनुसार ऐसा कहा जाता है कि समुद्र मंथन से उत्पन्न अमृत को दानवों ने देवताओं से छीन लिया।

इस दौरान भगवान विष्णु ने मोहिनी नामक सुंदर कन्या का रूप धारण करके दानवों से अमृत ले लिया और उसे देवताओं में बांटने लगे, लेकिन भगवान विष्णु की इस चाल को राहु नामक असुर समझ गया और वह देव रूप धारण कर देवताओं के बीच बैठ गया।

जैसे ही राहु ने अमृतपान किया, उसी समय सूर्य और चंद्रमा ने उसका भांडा फोड़ दिया। उसके बाद भगवान विष्णु ने सुदर्शन च्रक से राहु की गर्दन को उसके धड़ से अलग कर दिया। अमृत के प्रभाव से उसकी मृत्यु नहीं हुई इसलिए उसका सिर व धड़ राहु और केतु छायाग्रह के नाम से सौर मंडल में स्थापित हो गए। माना जाता है कि राहु और केतु इस बैर के कारण से सूर्य और चंद्रमा को ग्रहण के रूप में शापित करते हैं।

हिंदू धर्म में ग्रहण को मानव समुदाय के लिए हानिकारक माना गया है। जिस नक्षत्र और राशि में ग्रहण लगता है उससे जुड़े लोगों पर ग्रहण के नकारात्मक प्रभाव पड़ते हैं। हालांकि ग्रहण के दौरान मंत्र जाप व कुछ जरूरी सावधानी अपनाकर इसके दुष्प्रभावों से बचा जा सकता है। खगोल विज्ञान के अनुसार क्या होते हैं सूर्य और चंद्र ग्रहण सूर्य ग्रहण जब चंद्रमा सूर्य एवं पृथ्वी के मध्य में आता है, तब यह पृथ्वी पर आने वाले सूर्य के प्रकाश को रोकता है और सूर्य में अपनी छाया बनाता है। इस खगोलीय घटना को सूर्य ग्रहण कहा जाता है।

चंद्र ग्रहण जब पृथ्वी सूर्य एवं चंद्रमा के बीच आ जाती है तब यह चंद्रमा पर पड़ने वाली सूर्य की किरणों को रोकती है और उसमें अपनी छाया बनाती है। इस घटना को चंद्र ग्रहण कहा जाता है। ग्रहण के प्रकार पूर्ण सूर्य ग्रहण: जब चंद्रमा पूरी तरह से सूर्य को ढक ले तब पूर्ण सूर्य ग्रहण होता है।

आंशिक सूर्य ग्रहण: जब चंद्रमा सूर्य को आंशिक रूप से ढक लेता है तब आंशिक सूर्य ग्रहण होता है। वलयाकार सूर्य ग्रहण: जब चंद्रमा सूर्य को पूरी तरह न ढकते हुए केवल उसके केन्द्रीय भाग को ही ढकता है तब उस अवस्था को वलयाकार सूर्य ग्रहण कहा जाता है।

पूर्ण चंद्र ग्रहण: जब पृथ्वी चंद्रमा को पूरी तरह से ढक लेती है, तब पूर्ण चंद्र ग्रहण होता है। आंशिक चंद्र ग्रहण: जब पृथ्वी चंद्रमा को आंशिक रूप से ढकती है, तो उस स्थिति में आंशिक चंद्र ग्रहण होता है। उपच्छाया चंद्र ग्रहण: जब चंद्रमा पृथ्वी की उपच्छाया से होकर गुजरता है। इस समय चंद्रमा पर पड़ने वाली सूर्य की रोशनी अपूर्ण प्रतीत होती है। तब इस अवस्था को उपच्छाया चंद्र ग्रहण कहा जाता है।

Astrolok is one of the famous astrology institute based in Indore where you can learn vedic astrology, marriage astrology, nadi astrology,horoscope matching through live vedic astrology classes. It is a free platform to write astrology articles. Become a part of it by registering at https://www.astrolok.in/index.php/welcome/register

read more

Effect of Moon in 8th House in Astrology

Moon having any connection with the 8th house causes several mood swings even those with great creative, artistic and spiritual abilities will suffer from this.

Moon association with 8th house causes sudden mood swings, which can help to uplift ones creative or spiritual gifts and causes sudden confusion or a disturbed mind in utilizing ones gifts. 

A person can be so good in something that at a certain point his mind start getting disturbed and finding it difficult to focus on his gifts or potentials but this will not take long as they often recover quickly and get back to shape. Moon association with the 8th house makes one a two type personality.

Firstly, this can be someone who you often find in a happy mood but later became sad for no reason, the excitement in them suddenly disappears.

The 8th house of change, transformation, intuition, death, rebirth associating with moon will turn people with this placement into chameleons, this people are not changing their skin colors but their attitude, thoughts and mind is always changing or transforming to something new.

Those who devote themselves in feeding their mind in learning or gaining knowledge of esoteric sciences like astrology and palmistry will experience lots great improvement with time.

Moon association with 8th house gives several ups and downs in moods, feelings and thoughts changes.

So if your moon hits you so badly with a strange feelings or bad mood like this, always know that it hit you for a good reason because your mind is about to experience a new transformation and your intuition is about to get a boost and when the moon is done with you, your observation and guessing skills will improve, your intuition will be very strong, your power of concentration will be excellent and most of all your learning, reading and understanding abilities will improve and you will feel like a new soul as if you just had a rebirth.

Astrolok is one of the famous astrology institute based in Indore where you can learn vedic astrology, marriage astrology, nadi astrology,horoscope matching through live vedic astrology classes. It is a free platform to write astrology articles. Become a part of it by registering at
https://www.astrolok.in/index.php/welcome/register

read more