• +(91) 7000106621
  • astrolok.vedic@gmail.com

Learn what’s best for you

Learn Jyotish

Daily Panchang for 19th July 2019

🌞 ~ आज का हिन्दू पंचांग ~ 🌞

⛅ दिनांक 19 जुलाई 2019
⛅ दिन - शुक्रवार 
⛅ *विक्रम संवत - 2076 
⛅ शक संवत -1941
⛅ अयन - दक्षिणायन
⛅ ऋतु - वर्षा
⛅ *मास - श्रावण  
⛅ पक्ष - कृष्ण 
⛅ तिथि - द्वितीया सुबह 06:55  तक तत्पश्चात तृतीया
⛅ नक्षत्र - धनिष्ठा 20 जुलाई प्रातः 04:26 तक तत्पश्चात शतभिषा
⛅ योग - आयुष्मान् 20 जुलाई प्रातः 05:21 तक तत्पश्चात सौभाग्य
⛅ राहुकाल - सुबह 08:35 से सुबह 09:28 तक 
⛅ सूर्योदय - 06:07
⛅ सूर्यास्त - 19:21 
⛅ दिशाशूल - पश्चिम दिशा में
⛅ *व्रत पर्व विवरण - जयापार्वती व्रत पारणा 
💥 विशेष - द्वितीया को बृहती (छोटा बैंगन या कटेहरी) खाना निषिद्ध है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)
               🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞

🌷 विघ्नों और मुसीबते दूर करने के लिए 🌷

👉 20 जुलाई 2019 शनिवार  को कृष्ण पक्ष की चतुर्थी है ।
🙏🏻 शिव पुराण में आता है कि  हर महीने के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी ( पूनम के बाद की ) के दिन सुबह में गणपतिजी का पूजन करें और रात को चन्द्रमा में गणपतिजी की भावना करके अर्घ्य दें और ये मंत्र बोलें :
🌷 ॐ गं गणपते नमः ।
🌷 ॐ सोमाय नमः ।

           🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞

‪🌷 चतुर्थी‬ तिथि विशेष 🌷

🙏🏻 चतुर्थी तिथि के स्वामी ‪भगवान गणेश‬जी हैं।
📆 हिन्दू कैलेण्डर में प्रत्येक मास में दो चतुर्थी होती हैं। 
🙏🏻 पूर्णिमा के बाद आने वाली कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को संकष्ट चतुर्थी कहते हैं।अमावस्या के बाद आने वाली शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को विनायक चतुर्थी कहते हैं।
🙏🏻 शिवपुराण के अनुसार “महागणपतेः पूजा चतुर्थ्यां कृष्णपक्षके। पक्षपापक्षयकरी पक्षभोगफलप्रदा ॥
➡ “ अर्थात प्रत्येक मास के कृष्णपक्ष की चतुर्थी तिथि को की हुई महागणपति की पूजा एक पक्ष के पापों का नाश करनेवाली और एक पक्षतक उत्तम भोगरूपी फल देनेवाली होती है ।
           🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞

🌷 कोई कष्ट हो तो 🌷

🙏🏻 हमारे जीवन में बहुत समस्याएँ आती रहती हैं, मिटती नहीं हैं ।, कभी कोई कष्ट, कभी कोई समस्या | ऐसे लोग शिवपुराण में बताया हुआ एक प्रयोग कर सकते हैं कि, कृष्ण पक्ष की चतुर्थी (मतलब पुर्णिमा के बाद की चतुर्थी ) आती है | उस दिन सुबह छः मंत्र बोलते हुये गणपतिजी को प्रणाम करें कि हमारे घर में ये बार-बार कष्ट और समस्याएं आ रही हैं वो नष्ट हों |

👉🏻 छः मंत्र इस प्रकार हैं –
🌷 ॐ सुमुखाय नम: : सुंदर मुख वाले; हमारे मुख पर भी सच्ची भक्ति प्रदान सुंदरता रहे ।
🌷 ॐ दुर्मुखाय नम: : मतलब भक्त को जब कोई आसुरी प्रवृत्ति वाला सताता है तो… भैरव देख दुष्ट घबराये ।
🌷 ॐ मोदाय नम: : मुदित रहने वाले, प्रसन्न रहने वाले । उनका सुमिरन करने वाले भी प्रसन्न हो जायें ।
🌷 ॐ प्रमोदाय नम: : प्रमोदाय; दूसरों को भी आनंदित करते हैं । भक्त भी प्रमोदी होता है और अभक्त प्रमादी होता है, आलसी । आलसी आदमी को लक्ष्मी छोड़ कर चली जाती है । और  जो प्रमादी न हो, लक्ष्मी स्थायी होती है ।
🌷 ॐ अविघ्नाय नम:
🌷 ॐ विघ्नकरत्र्येय नम: 


📖 आचार्य अरूणा दाधीच जन्मपत्री विशेषज्ञ जयपुर 9983974145
           🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞
🙏🏻🌷🌸🌼💐☘🌹🌻🌺🙏🏻


Astrolok is one of the famous astrology institute based in Indore where you can learn vedic astrology, marriage astrology, nadi astrology,horoscope matching through live vedic astrology classes. It is a free platform to write astrology articles. Become a part of it by registering at https://www.astrolok.in/index.php/welcome/register
read more

Daily Panchang for 18th July 2019

🌞 ~ आज का हिन्दू पंचांग ~ 🌞

⛅ दिनांक 18 जुलाई 2019
⛅ दिन - गुरुवार 
⛅ *विक्रम संवत - 2076 
⛅ शक संवत -1941
⛅ अयन - दक्षिणायन
⛅ ऋतु - वर्षा
⛅ *मास - श्रावण  
⛅ पक्ष - कृष्ण 
⛅ तिथि - द्वितीया पूर्ण रात्रि तक
⛅ नक्षत्र - श्रवण 19 जुलाई रात्रि 01:36 तक तत्पश्चात धनिष्ठा
⛅ योग - प्रीति 19 जुलाई प्रातः 04:28 तक तत्पश्चात आयुष्मान्
⛅ राहुकाल - दोपहर 02:13 से शाम 03:52 तक 
⛅ सूर्योदय - 06:07
⛅ सूर्यास्त - 19:21 
⛅ दिशाशूल - दक्षिण दिशा में
⛅ व्रत पर्व विवरण - हिंडोला प्रारंभ, अशून्य शयन व्रत, जयापार्वती व्रत जागरण  (गु.ज.), द्वितीया वृद्धि तिथि
💥 विशेष - द्वितीया को बृहती (छोटा बैंगन या कटेहरी) खाना निषिद्ध है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)
               🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞

🌷 विघ्न नाश, रोग नाश एवं कार्य सिद्धि के लिए

🙏🏻 हनुमानजी के आगे सरसों के तेल का दिया जलाये तो रोगों का नाश करने मे मदद मिलेगी |
🙏🏻 गणपति जी की प्रतिमा के निकट सरसों के तेल का दिया जलाएंगे तो विघ्न नाश करने में मदद मिलेगी |
🌳 पीपल या वट वृक्ष के नीचे हनुमानजी का सुमिरन करके सरसों के तेल का दिया जलाया जाए तो कार्यसिद्धि करने मे मदद मिलेगी |

           🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞

🌷 गर्भ की रक्षा 🌷

👩 किसी महिला को बार बार गर्भ पात हो जाता हो या बच्चा होने के बाद तुरंत मर जाता हो तो ऐसी महिला डेढ़ – दो महीने तक ऐसा करे :- दोनों टाइम सात्विक भोजन करे, तीखा मिर्च मसाला वाला नहीं खाए… रोज सुबह देसी गाय का दूध पिए..ऐसा नहीं की दूध पहले से निकाल के रखा और ग्वाला घर पे ला कर देगा फिर उस महिला ने पिया ऐसा नहीं..वो महिला गौशाला में जाए, साथ में मिश्री का पाऊडर तैयार रखे…गौशाला में जैसे ही दूध निकाला, तुरंत छाना और मिश्री पाऊडर डालके पी ले, ऐसा डेढ़-दो महीना करे…..रोज भगवान श्रीकृष्ण का ध्यान करें  और प्रार्थना करें कि आपने उत्तरा के गर्भ का रक्षण किया, ऐसे मेरे भी गर्भ की रक्षा करे.. गाय का ताज़ा दूध बिना गर्म  किया हुआ पीना- ये सर्वोत्तम उपाय है।


📖 आचार्य अरूणा दाधीच जन्मपत्री विशेषज्ञ जयपुर 9983974145
             🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞
🙏🍀🌷🌻🌺🌸🌹🍁🙏

Astrolok is one of the famous astrology institute based in Indore where you can learn vedic astrology, marriage astrology, nadi astrology,horoscope matching through live vedic astrology classes. It is a free platform to write astrology articles. Become a part of it by registering at https://www.astrolok.in/index.php/welcome/register
read more

Daily Panchang for 17th July 2019

🌞 ~ आज का हिन्दू पंचांग ~ 🌞

⛅ दिनांक 17 जुलाई 2019
⛅ दिन - बुधवार 
⛅ *विक्रम संवत - 2076
⛅ शक संवत -1941
⛅ अयन - दक्षिणायन
⛅ ऋतु - वर्षा
⛅ *मास - श्रावण  *
⛅ पक्ष - कृष्ण 
⛅ तिथि - प्रतिपदा 18 जुलाई प्रातः 04:51 तक तत्पश्चात द्वितीया
⛅ नक्षत्र - उत्तराषाढा रात्रि 10:59 तक तत्पश्चात श्रवण
⛅ योग - विष्कम्भ 18 जुलाई प्रातः 03:48 तक तत्पश्चात प्रीति
⛅ राहुकाल - दोपहर 12:33 से दोपहर 02:13 तक 
⛅ सूर्योदय - 06:06
⛅ सूर्यास्त - 19:22 
⛅ दिशाशूल - उत्तर दिशा में
⛅ व्रत पर्व विवरण - पूर्णिमांत श्रावण मासारम्भ
💥 विशेष - प्रतिपदा को कूष्माण्ड(कुम्हड़ा, पेठा) न खाये, क्योंकि यह धन का नाश करने वाला है। (ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)
               🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞

🌷 कमज़ोर बच्चों के लिए 🌷 

👧 अगर कमज़ोर बच्चे हैं, तो पपीते के बीज छाया में सुखा दो और कूट के पाउडर बना दो । ५-७ पपीते के बीज का पाउडर और आधा चम्मच नीम का रस, बच्चे को ५ दिन तक पिलाओ । पेट में कृमि या और कोई तकलीफ है, वो दूर होगी ।

           🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞

🌷 घर में  झगड़ा हो तो कैसे मिटाए 🌷

👴 घर का जो मुखिया है वो रात को सोते समय पलंग के नीचे पानी का लोटा भर के रखे सुबह उसमे देखते हुए नारायण-नारायण बोलो और नहा धोकर वो जल पीपल या तुलसी को चढ़ा दें, ये सावधानी रखें कि पानी पर किसी का पैर न पड़े ..बस घर के तमाम झगड़े खत्म…..  हरे हरे…

👪 घर मे पति पत्नी और बच्चें हैं . पति पत्नी में ही झगड़े हैं …घर में कोई मुखिया नहीं बड़ा नहीं तो क्या करें?
घर के बच्चे पिता के पलंग के नीचे पानी का लोटा रखें, सुबह लोटा लेके उसमें  देखें और माँ बाप को भी बोले कि बोलो, “नारायण नारायण…घर में झगडे ना हो!” ….तो घर के झगडे एक चुल्लू भर पानी में खत्म…
नारायण नारायण….. किस बात का झगड़ा है? ..जय हो..*
           🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞

🌷 चतुर्मास में जीवनशक्ति बढ़ाने के उपाय 🌷

🙏 चतुर्मास में पाचनशक्ति मंद रहती है। अतः आहार कम करना चाहिए। पन्द्रह दिन में एक दिन उपवास करना चाहिए।
🙏 चतुर्मास में जामुन, कश्मीरी सेब आदि फल होते हैं। उनका यथोचित सेवन करें।
🙏 हरी घास पर खूब चलें। इससे घास और पैरों की नसों के बीच विशेष प्रकार का आदान-प्रदान होता है, जिससे स्वास्थ्य पर अच्छा प्रभाव पड़ता है।
🙏 गर्मियों में शरीर के सभी अवयव शरीर शुद्धि का कार्य करते हैं, मगर चतुर्मास शुद्धि का कार्य केवल आँतों, गुर्दों एवं फेफड़ों को ही करना होता है। इसलिए सुबह उठने पर, घूमते समय और सुबह-शाम नहाते समय गहरे श्वास लेने चाहिए। चतुर्मास में दो बार स्नान करना बहुत ही हितकर है। इस ऋतु में रात्रि में जल्दी सोना और सुबह जल्दी उठना बहुत आवश्यक है।


आचार्य अरूणा दाधीच जन्मपत्री विशेषज्ञ जयपुर 9983974145*
           🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞
🙏🏻🌷🌻☘🌸🌹🌼🌺💐🙏🏻

Astrolok is one of the famous astrology institute based in Indore where you can learn vedic astrology, marriage astrology, nadi astrology,horoscope matching through live vedic astrology classes. It is a free platform to write astrology articles. Become a part of it by registering at https://www.astrolok.in/index.php/welcome/register
read more

चंद्रग्रहण में क्या करे और क्या न करें

                                                                 चंद्रग्रहण में क्या करे और क्या न करें

16-17 जुलाई की मध्य रात्रि को चंद्र ग्रहण लग रहा है। यह उत्तराषाढ़ नक्षत्र धनु राशि मे होगा। गुरूपर्णिमा पर लगातार यह दूसरा साल है जिस दिन चंद्र ग्रहण लग रहा है। इससे पहले 27 जुलाई 2018 को गुरुपूर्णिमा पर ही खग्रास चंद्रग्रहण लगा था।
चंद्रग्रहण 16 जुलाई देर रात 1:31 से सुबह 4:31 बजे तक रहेगा। यह चंद्र ग्रहण भारत मे आंशिक रूप से दिखाई देगा तथा साथ ही ऑस्ट्रेलिया, अफ्रीका, एशिया, यूरोप एवं दक्षिण अमेरिका में भी दिखाई देगा।

गुरुपूर्णिमा पर विशेष पूजा पाठ ध्यान किया जाता है । लोग इस दिन गुरुओं की पूजा करते है। गुरु पूजा के कार्यक्रम सूतक लगने से पहले तक ही होंगे। 16 जुलाई को सूतक  दोपहर 1:30 बजे से ही लग जायेगा। जिस कारण पूजा पाठ इस समय से पूर्व हो करना होगा।

*ग्रहण के समय ग्रहों की स्थिति*

शनि व केतु ग्रह चंद्र ग्रह के साथ ही ग्रहण के समय धनु राशि में रहेंगे। जिससे ग्रहण का प्रभाव ज्यादा पड़ेगा।
सूर्य के साथ राहु और शुक्र मिथुन राशि मे रहेंगे। इस दौरान मंगल ग्रह नीच का रहेगा। जिससे जातको पर यह योग तनाव बड़ा सकता है। सूर्य और चंद्र चार विपरीत ग्रहो शुक्र, शनि , राहु, केतु के घेरे में रहेंगे जिससे प्राकृतिक आपदा व भूकंप की आशंका रहेगी।

*ग्रहण के समय क्या करे*

ग्रहण काल मे पूजा पाठ करना चाहिए। तथा घर मे रखी हुईं कच्ची सब्जियों एवं फ़लों में कुशा या तुलसी के पत्ते डाल कर रखे।
चंद्र ग्रहण के पश्चात पूरे घर को गंगाजल से साफ करना चाहिए व स्वयं किसी नदी में या गंगाजल से स्नान करें। उसके पश्चात घर की मूर्तियों को गंगाजल से स्नान करवा कर उनकी पूजा करें।
चंद्रग्रहण के पश्चात सफेद चीजो का दान करना चाहिए।
जिन्हें मंगल दोष हो वह ग्रहण के समय सुंदरकांड का पाठ करें।

*ग्रहण के समय क्या न करें*

ग्रहण के बाद पहले से बने हुए भोजन का इस्तेमाल  न करें।
किसी भी प्रकार का शुभ कार्य ग्रहण के समय न करें।
गर्भवती महिलाएं ग्रहण के समय घर से बाहर न निकले।

चंद्र ग्रहण के कारण मनुष्य के जीवन पर कुछ न कुछ प्रभाव अवश्य पड़ता है। इस बार 8 राशियों पर चंद्र ग्रहण का बुरा असर पड़ेगा । तथा मेष, मिथुन, सिंह व धनु राशि वालो के लिए यह ग्रहण अच्छा रहेगा।

*मेष राशि* के जातको पर सकारात्मक असर पड़ेगा। शत्रुओ का नाश होगा रुके हुए कार्य पूरे होंगे।

*वृषभ राशि* के जातको के अचानक खर्चे बढ़ेगे, यात्रा से लाभ होगा। स्वास्थ्य में परेशानी होगी।

*मिथुन राशि* पैतृक संपत्ति से लाभ होगा। कार्यक्षेत्र में मान-सम्मान बढेगा। आर्थिक स्थिति मजबूत होगी।

*कर्क राशि* नौकरी में स्थानांतरण की संभावना बनेगी। स्वास्थ्य में परेशानी होगी। कर्जदारों में बढ़ोतरी होगी।

*सिंह राशि* परिवार में खुशी माहौल होगा। नए कार्य मे निवेश से फायदा होगा। आय के अन्य मार्ग खुलेंगे।

*कन्या राशि* जीवन साथी के साथ संबंध अच्छे नही रहेंगे। वाणी पर नियंत्रण रखें, शत्रुओ से हानि होगी।

*तुला राशि* परिवार में कलह हो सकता है। प्रेम संबंधों में निराशा हाथ लगेगी। नए कार्य मे निवेश न करे।

*वृश्चिक राशि* बेवजह के खर्चो से बचे। नोकरी में तनाव की स्थिति बनेगी। वाहन ध्यानपूर्वक चलाये।

*धनु राशि* अचानक धन लाभ होगा। नोकरी मिलने की संभावना बनेगी। स्वास्थय अच्छा रहेगा। अध्यात्म की और मन लगेगा।

*मकर राशि* खर्चो में वृद्धि होगी। व्यापारिक नुकसान की सम्भावनाये बनेगी। विदेश यात्रा के योग बनेंगे।

*कुम्भ राशि* सेहत में गिरावट आएगी, ग्रहण का नकारात्मक असर पड़ेगा। धन हानि के योग बनेंगे।

*मीन राशि* प्रेम संबंधों में धोखा मिल सकता है, किसी से झगड़ा होने की संभावना है। जरूरी कार्यो में बाधा हो सकती है।

ज्योतिषाचार्य सुनील चोपड़ा
read more

Daily Panchang for 16th July 2019

🌞 ~ आज का हिन्दू पंचांग ~ 🌞

⛅ दिनांक 16 जुलाई 2019
⛅ दिन - मंगलवार 
⛅ विक्रम संवत - 2076
⛅ शक संवत -1941
⛅ अयन - दक्षिणायन
⛅ ऋतु - वर्षा
⛅ मास - आषाढ़
⛅ पक्ष - शुक्ल 
⛅ तिथि - पूर्णिमा 17 जुलाई प्रातः 03:08 तक तत्पश्चात प्रतिपदा
⛅ नक्षत्र - पूर्वाषाढा रात्रि 08:44 तक तत्पश्चात उत्तराषाढा
⛅ योग - वैधृति 17 जुलाई प्रातः 03:23 तक तत्पश्चात विष्कम्भ
⛅ राहुकाल - शाम 03:52 से शाम 05:32 तक 
⛅ सूर्योदय - 06:06
⛅ सूर्यास्त - 19:22 
⛅ दिशाशूल - उत्तर दिशा में
⛅ व्रत पर्व विवरण - व्रत पूर्णिमा, गुरुपूर्णिमा, व्यासपूर्णिमा, अमरनाथ यात्रा प्रारंभ, ऋषि प्रसाद जयंती, चातुर्मासारम्भ, विद्यालाभ योग, संक्रांति  (पुण्यकाल सूर्योदय से सूर्यास्त तक)
               🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞

  🌷 ग्रहण दर्शन ना करें 🌷
🌗 कोई-कोई TV Channel वाले नादान होते हैं.. ग्रहण का दृश्य लाईव दिखाते हैं .. ये नहीं देखना चाहिए और ग्रहण की छाया भी हम पर न पड़े इसका ध्यान रखना चाहिए

       🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞

🌷 ग्रहण के समय उसके देवता का मंत्र जप 🌷
➡ 16 -जुलाई ( मध्यरात्रि के बाद अर्थात 17-जुलाई 1:31 am to 4:30 am तक ), गुरुपूर्णिमा खग्रास चंद्रग्रहण है ।
🌗 ग्रहण का समय हो तो उस समय ग्रहण के देव का नाम जप करने से उस ग्रह का माने चन्द्र का विशेष आशीवार्द प्राप्त होते हैं चन्द्र ग्रहण में चन्द्र देव का मंत्र ...
🌷 ॐ सोमाय नमः
🌷 ॐ रोहिणी कान्ताय नमः
🌷 ॐ चन्द्रमसे नमः

फिर चन्द्र देव की स्तुति का श्लोक
🌷 " दधीशंख: तुषाराभम् क्षीरोरदार्णव संनिभम्,
नमामि शशिनं सोमं शम्भोर्मुकुटभूषणम् "
👉🏻 फिर चन्द्र गायत्री मंत्र बोलें ...
🌷 " ॐ अमृतान्गाय विदमहे कलारुपाय धीमहि तन सोमः प्रचोदयात "
     
               🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞

🌷 इसलिए जरूरी है जीवन में गुरु का होना 🌷

🙏🏻 हिंदू धर्म में आषाढ़ पूर्णिमा गुरु भक्ति को समर्पित गुरु पूर्णिमा का पवित्र दिन भी है। भारतीय सनातन संस्कृति में गुरु को सर्वोपरि माना है। वास्तव में यह दिन गुरु के रूप में ज्ञान की पूजा का है। गुरु का जीवन में उतना ही महत्व है, जितना माता-पिता का।

🙏🏻 माता-पिता के कारण इस संसार में हमारा अस्तित्व होता है। किंतु जन्म के बाद एक सद्गुरु ही व्यक्ति को ज्ञान और अनुशासन का ऐसा महत्व सिखाता है, जिससे व्यक्ति अपने सतकर्मों और सद्विचारों से जीवन के साथ-साथ मृत्यु के बाद भी अमर हो जाता है। यह अमरत्व गुरु ही दे सकता है। सद्गुरु ने ही भगवान राम को मर्यादा पुरुषोत्तम बना दिया, इसलिए गुरु पूर्णिमा को अनुशासन पर्व के रूप में भी मनाया जाता है।

🙏🏻 इस प्रकार व्यक्ति के चरित्र और व्यक्तित्व का संपूर्ण विकास गुरु ही करता है। जिससे जीवन की कठिन राह को आसान हो जाती है। सार यह है कि गुरु शिष्य के बुरे गुणों को नष्ट कर उसके चरित्र, व्यवहार और जीवन को ऐसे सद्गुणों से भर देता है। जिससे शिष्य का जीवन संसार के लिए एक आदर्श बन जाता है। ऐसे गुरु को ही साक्षात ईश्वर कहा गया है इसलिए जीवन में गुरु का होना जरूरी है।
         🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞

🌷 गुरु पूजन 🌷
🌷 गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णुः गुरुर्देवो महेश्वरः |
गुरुर्साक्षात परब्रह्म तस्मै श्री गुरवे नमः ||
ध्यानमूलं गुरुर्मूर्ति पूजामूलं गुरोः पदम् |
मंत्रमूलं गुरोर्वाक्यं मोक्षमूलं गुरोः कृपा ||
अखंडमंडलाकारं व्याप्तं येन चराचरम् |
तत्पदं दर्शितं येन तस्मै श्री गुरवे नमः ||
त्वमेव माता च पिता त्वमेव, त्वमेव बंधुश्च सखा त्वमेव |
त्वमेव विद्या द्रविणं त्वमेव, त्वमेव सर्वं मम देव देव ||
ब्रह्मानंदं परम सुखदं केवलं ज्ञानमूर्तिं |
द्वन्द्वातीतं गगनसदृशं तत्त्वमस्यादिलक्षयम् ||
एकं नित्यं विमलं अचलं सर्वधीसाक्षीभूतम् |
भावातीतं त्रिगुणरहितं सदगुरुं तं नमामि ||

🙏🏻 ऐसे महिमावान श्री सदगुरुदेव के पावन चरणकमलों का षोड़शोपचार से पूजन करने से साधक-शिष्य का हृदय शीघ्र शुद्ध और उन्नत बन जाता है | मानसपूजा इस प्रकार कर सकते हैं |

🙏🏻 मन ही मन भावना करो कि हम गुरुदेव के श्री चरण धो रहे हैं … सर्वतीर्थों के जल से उनके पादारविन्द को स्नान करा रहे हैं | खूब आदर एवं कृतज्ञतापूर्वक उनके श्रीचरणों में दृष्टि रखकर … श्रीचरणों को प्यार करते हुए उनको नहला रहे हैं … उनके तेजोमय ललाट में शुद्ध चन्दन से तिलक कर रहे हैं … अक्षत चढ़ा रहे हैं … अपने हाथों से बनाई हुई गुलाब के सुन्दर फूलों की सुहावनी माला अर्पित करके अपने हाथ पवित्र कर रहे हैं … पाँच कर्मेन्द्रियों की, पाँच ज्ञानेन्द्रियों की एवं ग्यारहवें मन की चेष्टाएँ गुरुदेव के श्री चरणों में अर्पित कर रहे हैं …

🌷 कायेन वाचा मनसेन्द्रियैवा बुध्यात्मना वा प्रकृतेः स्वभावात् |
     करोमि यद् यद् सकलं परस्मै नारायणायेति समर्पयामि ||


🙏🏻 शरीर से, वाणी से, मन से, इन्द्रियों से, बुद्धि से अथवा प्रकृति के स्वभाव से जो जो करते  हैं वह सब समर्पित करते हैं | हमारे जो कुछ कर्म हैं, हे गुरुदेव, वे सब आपके श्री चरणों में समर्पित हैं … हमारा कर्त्तापन का भाव, हमारा भोक्तापन का भाव आपके श्रीचरणों में समर्पित है |

🙏🏻 इस प्रकार ब्रह्मवेत्ता सदगुरु की कृपा को, ज्ञान को, आत्मशान्ति को, हृदय में भरते हुए, उनके अमृत वचनों पर अडिग बनते हुए अन्तर्मुख हो जाओ … आनन्दमय बनते जाओ …
ॐ आनंद ! ॐ आनंद ! ॐ आनंद !

📖 आचार्य अरूणा दाधीच जन्मपत्री विशेषज्ञ जयपुर 9983974145
         🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞
🙏🏻🌷🌻🌹🍀🌺🌸🍁💐🙏🏻

Astrolok is one of the famous astrology institute based in Indore where you can learn vedic astrology, marriage astrology, nadi astrology,horoscope matching through live vedic astrology classes. It is a free platform to write astrology articles. Become a part of it by registering at https://www.astrolok.in/index.php/welcome/register
read more

Daily Panchang for 12 July 2019

🌞 ~ आज का हिन्दू पंचांग ~ 🌞

⛅ दिनांक 12 जुलाई 2019
⛅ दिन - शुक्रवार 
⛅ *विक्रम संवत - 2076 *
⛅ शक संवत -1941
⛅ अयन - दक्षिणायन
⛅ ऋतु - वर्षा
⛅ मास - आषाढ़
⛅ पक्ष - शुक्ल 
⛅ तिथि - एकादशी रात्रि 12:31 तक तत्पश्चात द्वादशी
⛅ नक्षत्र - विशाखा शाम 03:58 तक तत्पश्चात अनुराधा
⛅ योग - साध्य सुबह 06:22  तक तत्पश्चात शुभ
⛅ राहुकाल - सुबह 10:52 से दोपहर 12:32 तक
⛅ सूर्योदय - 06:04
⛅ सूर्यास्त - 19:23 
⛅ दिशाशूल - पश्चिम दिशा में
⛅ व्रत पर्व विवरण - देवशयनी एकादशी, चातुर्मास व्रतारम्भ, पंढरपुर यात्रा
💥 विशेष - हर एकादशी को श्री विष्णु सहस्रनाम का पाठ करने से घर में सुख शांति बनी रहती है lराम रामेति रामेति । रमे रामे मनोरमे ।। सहस्त्र नाम त तुल्यं । राम नाम वरानने ।।
💥 आज एकादशी के दिन इस मंत्र के पाठ से विष्णु सहस्रनाम के जप के समान पुण्य प्राप्त होता है l
💥 एकादशी के दिन बाल नहीं कटवाने चाहिए।
💥 एकादशी को चावल व साबूदाना खाना वर्जित है | एकादशी को शिम्बी (सेम) ना खाएं अन्यथा पुत्र का नाश होता है।
💥 जो दोनों पक्षों की एकादशियों को आँवले के रस का प्रयोग कर स्नान करते हैं, उनके पाप नष्ट हो जाते हैं।
               🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞

🌷 देवशयनी एकादशी 🌷

➡ 12 जुलाई 2019 शुक्रवार को देवशयनी एकादशी है ।
🙏🏻 देवशयनी एकादशी का व्रत महान पुण्यमय, स्वर्ग एवं मोक्ष प्रदान करनेवाले, सब पापों को हरनेवाला, है ।
           🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞

🌷 चातुर्मास्य व्रत की महिमा 🌷

➡ गतांक से आगे........

🙏🏻 चतुर्मास में विशेष रूप से जल की शुद्धि होती है। उस समय तीर्थ और नदी आदि में स्नान करने का विशेष महत्त्व है। नदियों के संगम में स्नान के पश्चात् पितरों एवं देवताओं का तर्पण करके जप, होम आदि करने से अनंत फल की प्राप्ति होती है। ग्रहण के समय को छोड़कर रात को और संध्याकाल में स्नान न करें ।
गर्म जल से भी स्नान नहीं करना चाहिए। गर्म जल का त्याग कर देने से पुष्कर तीर्थ में स्नान करने का फल मिलता है।

🙏🏻 जो मनुष्य जल में तिल और आँवले का मिश्रण अथवा बिल्वपत्र डालकर ॐ नमः शिवाय का चार-पाँच बार जप करके उस जल से स्नान करता है, उसे नित्य महान पुण्य प्राप्त होता है। बिल्वपत्र से वायु प्रकोप दूर होता है और स्वास्थ्य की रक्षा होती है।

🙏🏻 चतुर्मास में जीव-दया विशेष धर्म है। प्राणियों से द्रोह करना कभी भी धर्म नहीं माना गया है। इसलिए मनुष्यों को सर्वथा प्रयत्न करके प्राणियों के प्रति दया करनी चाहिए। जिस धर्म में दया नहीं है वह दूषित माना गया है। सब प्राणियों के प्रति आत्मभाव रखकर सबके ऊपर दया करना सनातन धर्म है, जो सब पुरुषों के द्वारा सदा सेवन करने योग्य है।

🙏🏻 सब धर्मों में दान-धर्म की विद्वान लोग सदा प्रशंसा करते हैं। चतुर्मास में अन्न, जल, गौ का दान, प्रतिदिन वेदपाठ और हवन – ये सब महान फल देने वाले हैं।

🙏🏻 सतकर्म , सत्कथा, सत्पुरुषों की सेवा, संतों के दर्शन, भगवान विष्णु का पूजन आदि सत्कर्मों में संलग्न रहना और दान में अनुराग होना – ये सब बातें चतुर्मास में दुर्लभ बतायी गयी है। चतुर्मास में दूध, दही, घी एवं मट्ठे का दान महाफल देने वाला होता है।
जो चतुर्मास में भगवान की प्रीति के लिए विद्या, गौ व भूमि का दान करता है, वह अपने पूर्वजों का उद्धार कर देता है। विशेषतः चतुर्मास में अग्नि में आहूति, भगवद् भक्त एवं पवित्र ब्राह्मणों को दान और गौओं की भलीभाँति सेवा, पूजा करनी चाहिए।

🙏🏻 पितृकर्म (श्राद्ध) में सिला हुआ वस्त्र नहीं पहनना चाहिए। जिसने असत्य भाषण, क्रोध तथा पर्व के अवसर पर मैथुन का त्याग कर दिया है, वह अश्वमेघ यज्ञ का फल पाता है। असत्य भाषण के त्याग से मोक्ष का दरवाजा खुल जाता है। किसी पदार्थ को उपयोग में लाने से पहले उसमें से कुछ भाग सत्पात्र ब्राह्मण को दान करना चाहिए।
जो धन सत्पात्र ब्राह्मण को दिया जाता है, वह अक्षय होता है। इसी प्रकार जिसने कुछ उपयोगी वस्तुओं को चतुर्मास में त्यागने का नियम लिया हो, उसे भी वे वस्तुएँ सत्पात्र ब्राह्मण को दान करनी चाहिए। ऐसा करने से वह त्याग सफल होता है।

🙏🏻 चतुर्मास में जो स्नान, दान, जप, होम, स्वाध्याय और देवपूजन किया जाता है, वह सब अक्षय हो जाता है। जो एक अथवा दोनों समय पुराण सुनता है, वह पापों से मुक्त होकर भगवान विष्णु के धाम को जाता है। जो भगवान के शयन करने पर विशेषतः उनके नाम का कीर्तन और जप करता है, उसे कोटि गुना फल मिलता है।

🙏🏻 देवशयनी एकादशी के बाद प्रतिज्ञा करना कि ”हे भगवान ! मैं आपकी प्रसन्नता के लिए अमुक सत्कर्म करूँगा।” और उसका पालन करना इसी को व्रत कहते हैं। यह व्रत अधिक गुणों वाला होता है। अग्निहोत्र, भक्ति, धर्मविषयक श्रद्धा, उत्तम बुद्धि, सत्संग, सत्यभाषण, हृदय में दया, सरलता एवं कोमलता, मधुर वाणी, उत्तम चरित्र में अनुराग, वेदपाठ, चोरी का त्याग, अहिंसा, लज्जा, क्षमा, मन एवं इन्द्रियों का संयम, लोभ, क्रोध और मोह का अभाव, वैदिक कर्मों का उत्तम ज्ञान तथा भगवान को अपने चित्त का समर्पण – इन नियमों को मनुष्य अंगीकार करे और व्रत का यत्नपूर्वक पालन करे।
➡ समाप्त........
🌷 आचार्य अरुणा दाधीच जन्मपत्री विशेषज्ञ जयपुर 9983974145
        🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞
🙏🏻🌷🍀🌼🌹🌻🌸🌺💐🙏🏻

Astrolok is one of the famous astrology institute based in Indore where you can learn vedic astrology, marriage astrology, nadi astrology,horoscope matching through live vedic astrology classes. It is a free platform to write astrology articles. Become a part of it by registering at https://www.astrolok.in/index.php/welcome/register
read more