हाई ब्लड प्रेशर कंट्रोल करने के घरेलु उपाय

आजकल पहले के मुकाबले हाई ब्लड प्रेशर के मरीजो की संख्या बढ़ गई है। पहले सिर्फ बुजुर्गो को ये परेशानी होती थी लेकिन अब ये परेशानी बच्चो, जवानों और बुजुर्गो तीनो में है। इसका मुख्य कारण हमारी गलत जीवन शैली और तनाव है।

ब्लड प्रेशर क्या है?

हाई ब्लड प्रेशर अर्थात उच्च रक्तचाप क्या होता है, आइये जानते हैं।हमारी बॉडी में जो नसों में जो खून बहता है उसे दिल पूरी बॉडी में भेजता है और इसे भेजने के लिए वो एक तरह का प्रेशर इस्तेमाल करता है, लेकिन जब किसी कारण से ये प्रेशर बढ़ जाता है तो व्यक्ति को हाई ब्लड प्रेशर की परेशानी होने लगती है।

क्या आप ऑनलाइन सर्वश्रेष्ठ ज्योतिषी की तलाश कर रहे हैं? हमारे विशेषज्ञ ज्योतिषी द्वारा ज्योतिष परामर्श के लिए अभी संपर्क करें।

हाई बीपी के कारण

  • हाई ब्लड प्रेशर का सबसे बड़ा कारण है तनाव अर्थात स्ट्रेस। व्यक्ति अपने काम के लिए और एशो आराम से जीने के लिए हद से ज्यादा मेहनत करते हैं और उसको पाने के लिए दिन रात सोचते रहते हैं, जिस वजह से उन्हें स्ट्रेस होता है जिसका रिजल्ट हाई प्रेशर के रूप में सामने आता है।
  • व्यक्ति की ख़राब जीवन शैली भी इसका एक बड़ा कारण है। आजकल के युवा बहुतअसंतुलित भोजन खाते हैं जिससे होने उम्र से पहले ही हाई ब्लड प्रेशर होने की सम्भावना बढ़ जाती है।
  • आजकल के बच्चे पहले की तरह बाहर जाकर खेलते कूदते नही है और न ही कोई फिसिकल एक्टिविटी करते हैं ऐसे में उन्हें कम उम्र में ही हाई ब्लड प्रेशर की शिकायत होने लगती है।
  • जिनको कोई दिल की बीमारी है या शुगर की समस्या है उन्हें भी हाई ब्लड प्रेशर होने की सम्भावना होती है।
  • गलत खान पानी जैसे ज्यादा  मसालेदार खाना और जंक फ़ूड भी इसका मुख्य कारण है।
  • स्टाइल मारने के लिए और कई बार स्ट्रेस की वजह से लोग शराब और धूम्रपानकरने लगते हैं जिससे उनको हाई ब्लड प्रेशर की शिकायत हो जाती है।

हाई ब्लड प्रेशर के लक्ष्ण

  • थकान
  • सिर दर्द
  • तनाव
  • गुस्सा
  • सांस लेने में परेशानी
  • चिड़चिड़ापन
  • सीने में दर्द
  • पैर सुन्न होना
  • घबराहट
  • धुंधला दिखना
  • कमजोरी
उच्च रक्तचाप से कैसे बचा जा सकता है
  • जंक फ़ूड और तेल मसाले वाले फ़ूड खाना बंद कर दें, बंद नही कर सकते हैं तो खाना कम कर दें।
  • वजन कम करे, क्योकि वजन बढाने से भी हाई ब्लड प्रेशर होने की सम्भावना होती है।
  • रोज कम से कम आधा घंटा योग करे।
  • फल, साबुत अनाज, सब्जियां, कम फैट वाली चीजे और दूध पिए, ब्लड प्रेशर कण्ट्रोल में रहेगा।
  • आप अपने डाइट में कैल्शियम, मैग्नीशियमऔर पोटैशियम वाले फ़ूड शामिल करे।
  • डाइट में पायज, सोयाबीन, डाल और लहसुन आदि शामिल करे।
  • रोज 5 से 6 बादाम और 5 अखरोट खाए।
  • सुबह उठते ही सबसे पहले दो लहसुन खाए।
  • नारियल पानी, नीम्बू पानी, अलसी, सोया और काले चने भी ब्लड प्रेशर कण्ट्रोल करने में मदद करते हैं।
  • रोज में कम से कम 8 गिलास पानी पिए।
  • भोजन में सलाद जरुर शामिल करे।
हाई ब्लड प्रेशर वालो को क्या परहेज करनी चाहिए
  • खाने में कम नमक का इस्तेमाल करे और हो सके तो सेंधा  नमक खाएं।
  • चाय और कॉफ़ी का सेवन कम कर दें।
  • जितने भी डब्बे बंद फ़ूड हैं उसका सेवन न करे जैसे बिस्कुट, नमकीन, चिप्स आदि।
  • शराब और स्मोकिंग कम करे या बिलकुल बंद कर दें।
  • जंक फ़ूड जैसे बर्गर, पिज़्ज़ा बंद कर दें या कभी कभी खाए।
  • कभी भी सब्जी या सलाद में नमक ऊपर से डालकर न खाए।
  • जितना हो सके ज्यादा फैट वाली चीजे जजिसे हलवा, पूरी, पराठे आदि न खाए।
  • अचार, चटनियाँ, सॉस और अजीनोमोटो वाली चीजो से दूर रहे।
  • अच्छी नींद ले और समय पर सो जाए।
  • स्ट्रेस भरे माहोल से दूर हरे और कोशिश करे कि आप हमेशा शांत रहे। इसमें आपको योग और मैडिटेशन मदद करेगा। योग से आपका ब्लड प्रेशर तो कण्ट्रोल में रहेगा ही साथ ही आपके बॉडी में फ्लेक्सिबिलिटी आएगी और आप पहले के मुकाबले कई गुना ज्यादा काम कर पाएगे।
  • भोजन में कम सोडियम लें।
  • किसी एक्सपर्ट से बॉडी की तेल मालिश करवाएं, इससे ब्लड रोटेशन सही रहगा और ब्लड प्रेशर कण्ट्रोल में रहेगा।
  • योग करने का समय नही है तो सुबह मोर्निंग वाक पर जाए।
घरेलु उपाय
  • अजवाइन और मेथी का पानी पीने से ब्लड प्रेशर कांतोर्ल किया जा सकता है। रोज रात को अजवाइन और मेथी भिगोकर रखे और सुबह छानकर पानी पी लें।
  • रात को त्रिफला चूर्ण करीबन 20 ग्राम पानी में भिगो दें और अगले दिन उसमें 2 चम्मच शहद मिलाए और पी लें।
  • कम से दो कलियाँ रोज लहसुन खाली पेट खाए। इसे पानी के साथ चबा चबाकर खाए।ऐसे नही खा सकते हैं तो उसके रस की 5 बूंदे 20 मिलीलीटर पानी में मिलाएं और खाली पेट पी लें।

सर्वश्रेष्ठ वैदिक विज्ञान संस्थान (एस्ट्रोलोक) से ज्योतिष ऑनलाइन सीखें जहाँ आप विश्व प्रसिद्ध ज्योतिषी श्री आलोक खंडेलवाल से ज्योतिष सीख सकते हैं। इसके अलावा वास्तु पाठ्यक्रम, अंकशास्त्र पाठ्यक्रम, हस्तरेखा पढ़ना, आयुर्वेदिक ज्योतिष, और बहुत कुछ प्राप्त करें। निःशुल्क ऑनलाइन ज्योतिष पाठ्यक्रम उपलब्ध है।

यह भी पढ़ें: स्ट्रेच मार्क्स दूर करने के घरेलु उपाय